GuidePedia

0


Domain Names

प्रत्येक कंप्यूटर जो इन्टरनेट से जुडा होता है की एक अलग पता दिया जाता है जिसे IP address कहते है एक IP Address 2 मुख्य कार्यो को बताता है host or network interface identity or Location address एक IP चार Decimal संखयाओ का क्रम है जिसे Octets कहते है प्रत्येक octet की सीमा 0 से 255 तक होती है जिन्हें period(.) द्वारा अलग किया जाता है जैसे 127. 62. 0. 47 यह पता ip फिर सर्वर पर लोकेशन तक जाता है जहाँ आपको वेब साईट फाइले स्थापित होती है
IP पते की जगह डोमेन नामो का प्रयोग किया जाता है क्यूंकि ज्यादातर लोगो को नम्बरों के ड्रम के बजाय नाम को याद रखना ज्यादा आसान लगता है इसलिए आपका डोमेन नाम आपके ip पते को बताता है जो सर्वर पर आपकी वेब साईट फ़ाइलो की जगह होती है और इन्टरनेट पर यूजरों को आपके वेब पेजों को देखने की आज्ञा देता है डोमेन नाम को कंप्यूटर इन्टरनेट के साथ इन्टरनेट यूजरो द्वारा प्रयोग किए जाने वाले अलग नाम को बता सकता है
डोमेन नाम IP पते की तरह ही होता है सिवाय इसके कि डोमेन नाम संख्यो और अक्षरों वाला होता है जिसे मनुष्य समझते है जब IP पता संख्यों का क्रम होता है जब यूजर्स वेब ब्राउज़र में डोमेन नाम को लिखता है, तो प्रार्थना किया वेब पेज खुल जाएगा उदाहरण की लिए, Domain www.google.com internet address google.com को बताता है !
प्रत्येक डोमेन नाम दो हिन्सो से बना होता है TLD (उच्च स्तरीय डोमेन ) और दुसरे स्टार का डोमेन, डोमेन नाम में “yahoo.com”, .com हिंसा उच्च स्तर वाला डोमेन है और शब्द yahoo दुसरे स्तर का डोमेन है डोमेन नाम का .com हिंसा आमतोर पर संगठन या संस्था के उदेश्ये या किस्म को प्रभावित करता है दुसरे स्तर के डोमेन को Assigned Names और Number (ICANN) accredited register के लिए इन्टरनेट निगम द्वारा पंजीकृत होता चाहिए !
Genric TLDS की समिति संख्या है इनमे से कुछ को निम्न में दिखाया गया है :
.gov   -      सरकारी एजेंसी
.edu -   शिक्षा संसथान
.org  -  संगठन (गैर लाभ वाले )
.mil  -   मिलटरी
.com -  व्यावसायिक वयवसाय
.net  -  नेटवर्क संगठन
जेनरिक TLDS के लिए –d Country Code (C C) TLDS की संख्या बढती जा रही है जो विशेष देश के साथ वेब साईटो से जुड़े होता है –
.in -  India
.au  -   Australia
.jp  -    Japan
.us  -   United States
.ca  -   Canada
.cn  -   China
.hk  - Hang kong
डोमेन मने सिस्टम प्रत्येक वेब सेर्वर को डोमेन नाम सिस्टम की जरुरत डोमेन नाम को ip पते में बदलने के लिए पड़ती है क्यूंकि इन्टरनेट ip पते पर आधारित होता है, न की डोमेन नाम पर !
इन्टरनेट पते को होसे नाम से प्राप्त से प्राप्त करने की प्रक्रिया को रेजोलुशन  के नाम से जाना जाता है यह इन्टरनेट की कर्यप्रका आवश्यक घटक है एसी विभिन प्रकार की नाम रेजोलुशन विधिया उपलब्ध है DNS सर्वर होस्ट, फाइल और होस्ट काश एसी तीन रेजोलुशन विधिया है जिनका मुख्या रूप से प्रयोग होस्ट नाम के साथ किया जाता है !

Post a Comment

 
Top